इच्छा

विकिपिडिया नं
Jump to navigation Jump to search

इच्छा छगु प्रकारया मानव भाव ख।

ऐच्छिक और अनैच्छिक शारीरिक क्रियाओं _____

ऐच्छिक क्रिया == क्या कहाना है क्या खाना है क्या करना है इसमें कई प्रतिक्रिया है । जैसे किसी खतरे के बारे में देखकर सुनकर मस्तिष्क समझती है फिर वहां ह्रदय में तत्काल संकेत पहुंच जाती है जिसे स्वतः ही प्राण शक्ति सक्रिय होकर वह से भाग जाने या सुरक्षा के लिए तैयार हो जाता हो ।

अनैच्छिक क्रिया == भूख प्यास पाचन नींद तथा शारीरिक आंतरिक क्रियाऐ दिल का धड़कना लीवर के कार्य करना सांस लेना आदि ।

परन्तु अनैच्छिक और ऐच्छिक क्रिया आपास में मिलाकर भी कार्य करते है । जैसे भूख लगाना ये अनैच्छिक है क्योंकि शरीर को पोषक तत्व चाहिए फिर क्या खाना चाहिए ये ऐच्छिक है अर्थात स्वयं के ऊपर निर्भर करता है । विपरीत लिंग की ओर आकर्षण स्वाभाविक है परन्तु किसके साथ प्रेम प्रसंग रखना या ऐच्छिक है ।

मनुष्य को उम्र के अनुसार इच्छा आना स्वाभाविक है जैसे बाल्यकाल में खेलना किशोरावस्था में विपरीत लिंग की ओर आकर्षण युवावस्था में धन नाम विवाह संतान की इच्छा पौढ़ वृध्द अवस्था में भी युवावस्था के सामान्य इच्छा होती है परन्तु अधिकांश पौढ़ वृध्द अवस्था में अपने संतान परिवार के सुख शांति के लिए प्रयास करते है । परन्तु सभी मनुष्य अनैच्छिक व ऐच्छिक क्रिया से जुड़े है ।

परन्तु प्राणशक्ति से कुछ ऐसे ऊर्जा निकलती है जिसके कारण लोगों के ह्रदय में अच्छे बुरे व सामान्य इच्छा बनाते है जिसके कारण लोग सज्जन दुष्ट व सामान्य मनोस्थित के होते है इसी प्राण शक्ति की ऊर्जा को प्रज्ञा कहा जाता है । प्रायः मनुष्य के स्वाभाव व्यवहार व प्रवृत्ति का सम्बन्ध प्रज्ञा की ऊर्जा के कारण होता है जिसमें विवेक व बुध्दि स्तर की महत्वपूर्ण भूमिका होती है । प्रज्ञा ऊर्जा ही ह्रदय में इच्छा के रूप प्रगट होता है जिसमें किसे मित्रता करना है किसे प्रेम करना है किसे विवाह करना है समाज में क्या कार्य करना है जीविका के लिए या फिर निजी व समाजिक स्थति को समझ कर कुछ भी कार्य करना है जीने के लिए।

परन्तु मनुष्य के जन्मों के साथ उसमें बुध्दि व विवेक का स्तर घटता बढ़ता रहता है जिसके कारण मनुष्य के सम्पत्ति प्रसिध्दी पद में उतर चढ़ाव होता रहता है कहा जाऐ तो जो आज निम्न स्तर का जीवन जी रहा है आने वाले जन्म में मध्यम या उच्च स्तर का जीवन जियेगा और जो आज उच्च स्तर का जीवन जी रहा है आने वाले जन्म में मध्यम या निम्न स्तर का जीवन जियेगा ।

खँग्वःयागु उत्पत्ति व छ्येलेज्या[सम्पादन]

उत्पत्ति व विकास[सम्पादन]

थ्व खँग्वयागु छ्येलेज्या दक्ले न्ह्य संस्कृतय् जुगु ख। लिपा थ्व खँग्वयागु तत्सम खँग्वया रुपे यक्व भासे, यक्व कथलं छ्येलेज्या जुल।

छ्येलेज्या[सम्पादन]

थ्व खँग्वयागु छ्येलेज्या संस्कृतय् व संस्कृत नाप स्वापू दुगु व संस्कृत नं बुया वगु भाषे जुगु खने दु।

स्वया दिसँ[सम्पादन]