जैन धर्म

विकिपिडिया नं
थन झासँ: navigation, मालादिसँ

जैन धर्म भारत यु श्रवण परम्परा नं वगु छगु धर्म व दर्शन खः ।

तीर्थंकर[सम्पादन]

जैन धर्मय् २४गु तिर्थंकरतेत हनिगु ज्या जुइ |

The table's caption
No. Cell 2
1 ऋषभदेव जी
2 अजितनाथ जी
3 सँभवनाथ जी
4 अभिनंदन नाथ जी
5 सुमितनाथ जी
6 पदम प्रभु जी
7 सुपारश नाथ जी
8 चंदाप्रभु जी
9 सुविधी नाथ जी
10 शीतल नाथ जी
11 श्रेंय़ास नाथ जी
12 वासुपुज् जी
13 विमलनाथ जी
14 अनंत नाथ जी
15 धमँनाथ जी
16 शांतिनाथ जी
17 कुंथुनाथ जी
18 अऱह नाथ जी
19 मल्लीनाथ जी
20 मुनिसुव्रत जी
21 निमनाथ जी
22 अऱिषटनेमी जी
23 पारस नाथ जी
24 महावीर स्वामी जी

सम्प्रदाय[सम्पादन]

श्वेताम्बर[सम्पादन]

श्वेताम्बर सन्यासी तेसं तुयुगु वस पुनि ।

दिगम्बर[सम्पादन]

दिगम्बर मुनि(श्रमण) नांगां च्वनि।

धर्मग्रंथ[सम्पादन]

दर्शन[सम्पादन]

'अनेकान्तवाद[सम्पादन]

स्यादवाद[सम्पादन]

जीव और पुद्गल[सम्पादन]

जैन आत्मा यात माने याइ। इमिसं उकित "जीव" धाइ। अजीव यात पुद्गल धाइ । इमिगु कथलं म्ह निगु मिले जुया बुया वै । जीव दुख-सुख, आदियु अनुभव याइ व पुनर्जन्म काइ ।

मोक्ष[सम्पादन]

त्रिरत्न[सम्पादन]

ईश्वर[सम्पादन]

जैन ईश्वर यात माने याइ।

पंचमहाव्रत[सम्पादन]

सत्य, अंहिसा, अस्तेय, ब्रह्मचर्य, अपरिग्रह ।

अहिंसा य्र जोड[सम्पादन]

अहिंसा व जीव दयाय् यक्व जोड बिगु दु। सकल जैन शाकाहरी जुइ ।